शनिवार, 31 जुलाई 2010

दोस्ती

दोस्ती ...एक अहम रिश्ता

4 टिप्‍पणियां:

M VERMA ने कहा…

दोस्ती दिवस मुबारक हो

संजय भास्कर ने कहा…

happy friendship day

संजय भास्कर ने कहा…

मित्रता किसे नहीं भाती। यह अनोखा रिश्ता ही ऐसा है जो जाति, धर्म, लिंग, हैसियत कुछ नहीं देखता, बस देखता है तो आपसी समझदारी और भावों का अटूट बन्धन।

संजय भास्कर ने कहा…

दोस्त ही वह शख्स होता है जो आपके जीवन के सभी राज जानता है। दोस्ती की कसम देने की देर होती थी की काम हो जाता था। फिर सब एक-दूसरे की कमजोरी भी जानते थे। दोस्ती में बिना शब्दों के अभिव्यक्तियाँ भी बहुत कुछ कह जाती हैं। आखिर ये सब दोस्ती में ही तो चलता है।