शनिवार, 19 जून 2010

तस्वीर के तसव्वुर में (1)

                                          ईंट , पत्थर और संगमरमर से लोगों के घर बनाने वाला मजदूर 
                                          पेड़ की छाँव में , गहरी नींद में 
                                          कड़ी मेहनत के बाद लू के गरम थपेड़े भी 
                                          बसंती हवा जैसे लगते होंगे 
 

3 टिप्‍पणियां:

'उदय' ने कहा…

... बहुत सुन्दर!!!!

KAILASH CHAND CHAUHAN ने कहा…

बहुत अच्छा लिखा है. अच्छी नींद के लिए मखमली गद्दे नहीं, शारीरिक मेहनत चाहिए.लोगों को मखमली गद्दों पर नींद के लिए तड़पते देखा है, जबकि खुरदरी जगह पर चैन की नींद सोते देखा है.
- कैलाश चंद चौहान,रोहिणी, दिल्ली.

nitin ने कहा…

awsome yaar