सोमवार, 19 अप्रैल 2010

बस... किये जा रहे है

जाने क्यों मुझे ऐसा लगता है की
हम सब अपनी जिंदगी की थर्ड क्लास कहानी को
फर्स्ट क्लास एंडिंग देने के लिए
सारे सेकंड क्लास काम किये जा रहे है
;;;;
;;;;;;;;
;;;;;;;;;;
;;;;;;;;;;;
;;;;;;;;;;;;
ऐसे काम जो शायद हमें नही करने चाहिए या जो हम खुद भी करना नही चाहते

5 टिप्‍पणियां:

kunwarji's ने कहा…

"बस... किये जा रहे है"

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

amritwani.com ने कहा…

bahut khub




shekhar kumawat

http://kavyawani.blogspot.com/

Udan Tashtari ने कहा…

सही कहा!

कुश ने कहा…

बहुत गहरी बात कही है आपने.. ज़िन्दगी का दर्शन दे दिया इस छोटी सी पोस्ट में..