बुधवार, 10 फ़रवरी 2010

इश्क का उत्सव

बागों से निकलकर गुलाब सब
बाजार में आ गए है
प्यार कि दुकानों में
 मोहब्बत के सामान
फिर एक बार 
छा गए है 
गलती से कोई 
कोई ग़लतफहमी में 
दिल तो हर कोई
लगाये बैठा है 
मगर वो  अहसास 
जो आँखों से ब्यान
 हो न सके
वो अल्फाज जो
न पहुचे ही जुबान तक
अब तलक
उन्हें कहने के दिन
आ गए है 
यूँ तो तुझसे मिलने 
कि हर तारीख 
तोहफा है 
मेरी जिंदगी  का मुझे 
मगर इश्क के इस उत्सव पर
प्रेम कि रसम
कुछ इस तरह अदा कर
कि मेरी हर तन्हाई में
तसव्वुर हो तेरा
और तक़दीर की हर तारीख
तेरे  आने की  तदबीर हो जाये

12 टिप्‍पणियां:

हृदय पुष्प ने कहा…

अच्छे शब्द और रचना

अनिल कान्त : ने कहा…

बहुत ही मुलायम से शब्द हैं...

M VERMA ने कहा…

कि मेरी हर तन्हाई में
तसव्वुर हो तेरा
और तक़दीर की हर तारीख
तेरे आने की तदबीर हो जाये
बहुत नाज़ुक सी मनुहार है.
सुन्दर रचना

संजय भास्कर ने कहा…

सुन्दर रचना

हर्ष वर्द्धन हर्ष ने कहा…

मगर वो अहसास
जो आँखों से ब्यान
हो न सके
वो अल्फाज जो
न पहुचे ही जुबान तक
अब तलक
उन्हें कहने के दिन
आ गए है
सुन्दर रचना, बधाई!

vedvyathit ने कहा…

EK DIL KE LIYE KITNE DOSRE DIL TODTI
EK DIL KE LIYE APNE SIR SE PTATHR TODTI
PR YDI TOOTE YHI DIL SOCH KR DEKHO JRA
CHHODTI FIR JINDGI KYA SARE NATE TODTI

DR.VEDVYATHI@GMAIL.COM

RaniVishal ने कहा…

Bahut umda...bahut accha likhati hai aap !!Badhai swikar kare..
http://kavyamanjusha.blogspot.com/

संगीता पुरी ने कहा…

वाह .. बहुत सुंदर !!

अमिताभ मीत ने कहा…

कि मेरी हर तन्हाई में
तसव्वुर हो तेरा
और तक़दीर की हर तारीख
तेरे आने की तदबीर हो जाये

kya baat hai. bahut badhiya.

विचारों का दर्पण ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना ...

दिगम्बर नासवा ने कहा…

कि मेरी हर तन्हाई में
तसव्वुर हो तेरा
और तक़दीर की हर तारीख
तेरे आने की तदबीर हो जाये

फूलों जैसे एहसास लिए नाज़ुक सी रचना .....बहुत लाजवाब रचना
महा-शिवरात्रि की बहुत बहुत बधाई .....

संजय भास्कर ने कहा…

बागों से निकलकर गुलाब सब
बाजार में आ गए है
प्यार कि दुकानों में
मोहब्बत के सामान
फिर एक बार
छा गए है
गलती से कोई
कोई ग़लतफहमी में
दिल तो हर कोई
लगाये बैठा है

इन पंक्तियों ने दिल छू लिया... बहुत सुंदर ....रचना....