मंगलवार, 27 अक्तूबर 2009

छोटा सा सवाल

एक ऐसे सफर में जिसकी सिर्फ़ मंजिल मालूम हो और रास्ते लापता । अगर लौट जाना भी न तो मुमकिन हो न ही मुनासिब । आगे बढती हुई कुछ ऐसी कोशिशे जिनसे कामयाबी हर कदम के साथ दूर हो रही है । लबो की मुस्कराहट महज दिखावा भर हो और आंसू जैसे आंखों के अन्दर ही कहीं बह चुके हो । जब शहर भर के शोर में भी बस एक खामोशी सुनाई दे । जब अपनों की हजार ख्वाइशों के बीच भी एक ख्वाब अपना दिखाई दे......
तब किस तरफ़ जाए कोई ?
?
?
?
अक्सर छोटे सवालों का जवाब बडा कठिन होता है

3 टिप्‍पणियां:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

ख्वाहिश को पूरा करने में जुट जाएँ ........ अच्छा लिखा है

M VERMA ने कहा…

हर बेहतर मंजिल के रास्ते नही होते वो तो बनाने होते हैं. लौट्ने का खयाल ही क्यो हर हालात में आगे ही जाना है. जब शहर के शोर के बीच खामोशी हो तो खुद खामोश होकर खुद के अन्दर की आवाज़ सुनना चाहिये धीरे धीरे खामोशी काफूर हो जायेगी.
किसने कहा ये सवाल छोटे है?

Suman ने कहा…

nice