शनिवार, 24 अक्तूबर 2009

आंकडों में बसी जिंदगी

सपने कल्पना के सिवाय कुछ भी नही होते ...मगर कभी कभी सपनो से इंसान का वजूद जुड़ जाता है... अस्तित्व का आधार बन जाते है सपने ...जैसे सपनो के बगैर साँस लेना भी मुश्किल हो ..हाँ मुश्किल तो होता है मगर साँस लेना नही हर साँस के साथ सपनो के सफर में मंजिल तक पहुचना बहुत मुश्किल होता । आंकडों की दुनिया के महारथी कहते है की पुरी दुनिया में सिर्फ़ १० प्रतिशत लोग ही बेहतर जिंदगी बसर करते है बाकि ९० प्रतिशत लोग कीडे मकोडे की तरह जीते है खाते है पीते है और एक दिन मर जाते है । आंकडों की भी अपनी ही एक अलग दुनिया है जिस पर ज्यादा कुछ कहना बेकार है मगर हम जैसे लोग जो हर रोज आंकडों से ज्यादा असलियत से वाकिफ होते है उनके लिए १० या ९० प्रतिशत के हिसाब के बजाये उस ज़िन्दगी के मायने ज्यादा होते है जिसमे उनके नैनों में बसने वाली सपनो की फेहरिस्त का कोई एक अंश भी सच हो सके इसी कोशिश में वो जो दिन रात गुजारते है वो उनका संक्रमण काल होता है एक स्वर्णिम सवेरे की आशा में गुजरने वाला संक्रमण काल । येही उनके जीवन का वास्तविक सुख होता होता है आखिर कीडे मकोडे भी तो खाने की खोज करते है किसी के घर के सामान में रहने की जगह बनते है वो भी अपने हिस्से का संघर्ष करते है और इंसान भी

3 टिप्‍पणियां:

संगीता पुरी ने कहा…

कीडे मकोडे के जीवन में कीडे मकोडे के रूप में ही मर जाना निश्चित होता है .. पर मनुष्‍य अपनी बुद्धि और अपनी मेहनत की बदौलत सफलता का नित नया आयाम छू सकता है !!

परमजीत बाली ने कहा…

सही तो यह है कि सपनों ने ही यह सारी तरक्की की है....इन्सान पहले सपने बुनता है फिर उसे साकार करने की कोशिश करने लगता है।यह सही है कि सभी सपने पूरे नही होते..लेकिन कुछ को जरूर पंख मिलजाते हैं.......जैसे उड़ने की चाह ने इन्सान को जहाज बनाना सिखा दिया।

शरद कोकास ने कहा…

10 प्रतिशत तो आपने ज़्यादा बता दिया ..और कम कीजिये थोड़ा ।