मंगलवार, 10 फ़रवरी 2009

बस वादविवाद

मुझे हमेशा से वाद विवाद प्रतियोगितायों में हिस्सा लेने का बहुत शोंक रहा है लेकिन कॉलेज में दाखिल होने पर मेरी साथी ने मुझे संसदिये वाद विवाद प्रतियोगिता के बारे में बताया और मुझे हिस्सा लेने के लिए कहा लेकिन मुझे इस तरह की वाद विवाद का कोई अनुभव नही था तो मई थोड़ा नेर्वेस थी लेकिन मेरी साथी जो मुझसे पहले इस तरह की वाद विवाद में जा चुकी थी मुझे समझाया की --------------------------
संसदिये वादविवाद प्रतियोगिताक्पेहला और सबसे जरुरोई नियम यही है की आपको अपने विपक्षी दल की बात को हर कीमत पर काटना ही है यदि आप तथ्यों के साथ अपनी बात रखते हो तो और भी बढ़िया है उसके इस nuskhe को apnate हुए मैंने २-३ बार संसदिये वाद विवाद प्रतियोगिता में हिस्सा तो लिया लेकिन जीत नही सकी क्योंकि सही बात को काटने का मुझे कोई अनुभव नही रहा है
खैर मैं बेशक अपनी दोस्त की seekh को नही अपना सकी लेकिन उसकी बात बिल्कुल सही थी ये aehsaas aajkal मुझे बार बार हो रहा है
कुछ १-२ दिन पहले BJP के rajnath singh ने कहा -------------satta में आने पर raam मन्दिर दुबारा banvayenge ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,लाल कृष्ण advani ने कहा की कोई अगर मुझसे जय shri ram कहता है तो मई कहता hun की जय shri raam कहना tab sarthak होगा जब हम ayodhya में भव्य raam मन्दिर banva सकेंगे
BJP के इस विचार और naare को NDA या sangh से कोई samarthan नही मिला vahi congress पार्टी ने भी बात के javab में कहा है की raam के नाम पर gumraah किया जा रहा है

ये बातें और bayanbaji अपने TV और akhbaro में khoob सुनी और पड़ी hongio लेकिन inka astitva क्या है जिस देश में गरीबी ,brashtachar, berojgari और aatankvaad हर badte दिन के sath badta जा raaha है vaha भव्य raam मन्दिर banvane की bate हो रही है bhagvan raam के प्रति shradha की वजह से ये सब नही हो रहा बल्कि इसलिए किया जा रहा है की और कोई मुद्दा नही bacha है और विपक्षी दल की बात काटना और उस पर aarop लगाना संसदिये vyavstha का नियम हो गया है
जो लोग ये मन्दिर m,asjid kom लेकर हर ५ वर्ष बाद bawal machate hia यदि १९९१ में एक poorani मस्जिद के बदले sansad की garima की raksh के लिए यदि उसने सरकार गिरा दी hiti तो तो शायद आज asli raam राज्य की isthapna की राह मिल गई होती
लेकिन
sarkaro के raveye के बारे में तो यही बात सही है की

तुमको aashoofta mijaajon की ख़बर से क्या काम
तुम sawara करो बैठे हुए gaisun अपने

2 टिप्‍पणियां:

परमजीत बाली ने कहा…

सही लिखा है।

विनय ने कहा…

बहुत ख़ूब, सुन्दर प्रस्तुति


------
गुलाबी कोंपलें | चाँद, बादल और शाम