मंगलवार, 26 जुलाई 2016

उदास रातें

उदास रातों में जो कविताएं लिखी जाती हैं
वो अक्सर दिन के उजाले को मैला कर जाती हैं।

उदास रातों में जो ख्वाब बुने जाते हैं।
वो जिंदगी की हकीकत को और कसैला कर जाते हैं।

उदास रातों में जिन लोगों को याद किया जाता है।
उन्हें दिन के समय य़ूं ही भुला भी दिया जाता है।

उदास रातों में जिन बातों से चेहरे पर हंसी आती है
उन्हीं बातों से दिन की रोशनी में आंखों के भीतर ही भीतर नमी आती है।

उदास रातें जो कहना चाहती हैं
उन्हें सुनने की हिम्मत दिन में कहीं खो सी जाती है।

उदास रातेॆ जब पास आकर बैठती हैं
तो उदासी दोहरी हो जाती है।
दिन भर की हंसी-खुशी कोरी हो जाती है।

1 टिप्पणी:

Kavita Rawat ने कहा…

मन उदास तो ये जग सूना ही लगता है
बहुत सुन्दर रचना