मंगलवार, 29 नवंबर 2011

तेरे बारे में



दुनिया की इस भीड़ में
जब मैं कहीं खो सी जाती हूँ
सिर्फ तुम्हारे ख्याल भर से
खुद ही खुद को
ख़ास जताती हूँ
...
देर शाम
दफ्तर से घर लौटते वक़्त
जब कुछ मनचले
मैली सी  नजरों से
झांकते है मेरे भीतर
तुम्हारे अहसास भर से
मैं खुद को ताकत दे पाती हूँ
...
जब कभी शून्य में
समा जाती हैं मेरी सारी सोच
और मैं तनहा हो जाती हूँ
तब खुद को जगाने के लिए
तुम्हारे कुछ ख्वाब सजाती हूँ
...
दिमाग, दिल और देह तक
जब बिक रही है हर चीज
और खरीददार खड़े हैं बाजार में
मैं खुद को
तुम्हारी अमानत समझकर बचाती हूँ
...
घर के बड़े कहते हैं बड़ी सयानी हूँ मैं
...
दोस्त कहते है दीवानी हूँ मैं
...
मुझे लगता है कुछ नहीं हूँ
तुम्हारी हिमानी हूँ मैं

8 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

मैं खुद को
तुम्हारी अमानत समझकर बचाती हूँ
घर के बड़े कहते हैं बड़ी सयानी हूँ मैं

....आपने सही कहा है इस कविता में.

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत सच कहा है..बहुत मर्मस्पर्शी और सुन्दर रचना..

sushma 'आहुति' ने कहा…

बेहतरीन भाव अभिवयक्ति.....

सागर ने कहा…

khubsurat bhaavo ki rachna....

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बहुत खूब!

सादर

pratham ने कहा…

humm badiya nahi kah sakta ,kya baat hai nahi kah sakta , kyoki in shabdo se khasa paresaan rahna pada beetw waqt me ha par itna to kah hi sakta hu ki padhkar laga jaise pedal ghaziyabad ghoom raha hu

बेनामी ने कहा…

hi dee hi anubhuti-abhivyakti.blogspot.com blogger found your blog via yahoo but it was hard to find and I see you could have more visitors because there are not so many comments yet. I have found website which offer to dramatically increase traffic to your website http://xrumerservice.org they claim they managed to get close to 1000 visitors/day using their services you could also get lot more targeted traffic from search engines as you have now. I used their services and got significantly more visitors to my website. Hope this helps :) They offer how to increase page rank seo optimise backlink service backlinks to my site Take care. John

vikas singh ने कहा…

awesome :) :) i dun know, how much i could try for getting this Silk touch :) :) excellent :)